व्यंग- मेरा भारत महान

  • 158 Views
  • 46 Likes
  • August 12, 2018 1:38 AM
poems

प्रजातंत्र का गन्ना राजनीती की ऐसी चरखी में पिल रहा है ।
आम आदमी को चूसा हुआ छिलका, और खास को रस मिल रहा है।

नेता कोठियों में काजू और संतरी दरवाजों पर संतरे छील रहे हैं।
सबसे बड़े प्रजातंत्र में,आज भी करोड़ों बच्चे कूड़े के ढेर से प्लास्टिक के टुकड़े बीन रहे हैं।

इसी स्थिती को ऊंची दुकान फीके पकवान कहते हैं।
फिर भी हम गर्व से मेरा भारत महान कहते हैं।




Leave a Comment:



Comments:


Avatar

Nitya kishore July 16, 2018 5:43 PM

वाह वाह ।मजा आ गया


Avatar

Waaahh niceee July 16, 2018 6:45 PM

Arjun shingh


Avatar

Shin Chan July 17, 2018 5:08 PM

nice


Avatar

PSI July 17, 2018 5:08 PM

Good


Avatar

वाह वाह July 19, 2018 10:25 PM

वाह वाह,मजा आ गया


Avatar

Unknown July 21, 2018 10:05 PM

Bilkul sahi


Avatar

Modi July 21, 2018 10:22 PM

Gajab


Avatar

by Nitin July 22, 2018 12:36 PM

Nice...


Avatar

Rajat July 22, 2018 12:47 PM

Good one


Avatar

Kk July 24, 2018 9:43 PM

Nice


Avatar

gaurav July 24, 2018 9:48 PM

bharat mata ki jai..,


Avatar

Priya Gurjar July 24, 2018 9:58 PM

Nice ... nai hindi nai bharat🚩


Avatar

simmi July 25, 2018 7:24 AM

Nice


Avatar

Anjana singh July 25, 2018 12:05 PM

nice...that true


Avatar

kushi July 25, 2018 3:22 PM

Hmmm


Avatar

Bhawna July 25, 2018 5:49 PM

Right


Avatar

Saurabh Sharma July 27, 2018 2:11 PM

Good